समस्त विद्याओं की भण्डागार- गायत्री महाशक्ति